Home About E-PAPER Contact-Us
संकटमोचन कोरोना पोर्टल गंगापुर सिटी

iqfyl us xqV[kk O;kikjh ds f[kykQ dh cMh dk;Zokgh

(08-05-2020 09:36 PM)

lokbZek/kksiqj ftys ds xaxkiqj flVh esa ykWd Mkmu esa Hkh xqV[ks ds O;ikjh pksjh Nhis O;kikj djrs jgsA dbZ O;kikjh rks jsYos ykbZu ds lgkjs lgkjs xqV[ks dh cksfj;ksa dks ys tkrs vkSj xqV[ks dk O;kikj djrsA ‘kgj dh dksrokyh Fkkuk iqfyl us dh xqV[kk O;kikfj;ksa ds f[kykQ cMh dk;ZokghA Fkkukf/kdkjh fnXfot; flag us crk;k fd yxHkx <kbZ yk[k :i;s dk xqV[kk tnkZ cjken fd;k x;k gS rFkk fofHkUu /kkjkvksa ds rgr ekeyk ntZ fd;k gSA

महाराष्ट्र के औरंगाबाद के ट्रेन हादसे में 15 प्रवासी मजदूरों की मौत

(08-05-2020 09:44 AM)

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में रेलवे ट्रैक पर सो रहे मजदूरों के ऊपर से आज सुबह मालगाड़ी गुजरने से बड़ा हादसा हो गया। सूत्रों के अनुसार, सुबह साढ़े छह बजे हुए इस हादसे में कम से कम 15 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई। साउथ सेंट्रल रेलवे के सीपीआरओ ने बताया कि औरंगाबाद के कर्माड के नजदीक हादसा हुआ। आरपीएफ और स्थानीय पुलिस घटनास्थल के लिए रवाना हो गई है।  एक अधिकारी ने बताया कि ये सभी मजदूर जालाना से भुसावल की ओर जा रहे थे। सभी को मध्यप्रदेश जाना था। उन्होंने कहा कि सभी रेलवे ट्रैक के किनारे-किनारे चल रहे थे। इसी दौरान थकान होने से वे रेलवे ट्रैक पर ही सो गए।

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार ने मार्च महीने के अंतिम दिनों में लॉकडाउन का ऐलान किया था। इसके बाद लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर विभिन्न राज्यों में जहां-तहां फंस गए थे। इसके बाद कई मजदूर पैदल ही घर के लिए निकल गए। हालांकि, तीसरे चरण का लॉकडाउन घोषित होने के बाद केंद्र सरकार ने मजदूरों को उनके गृह राज्य पहुंचाने के लिए ट्रेनों का संचालन शुरू किया है। रेलवे अभी तक एक लाख से भी ज्यादा मजदूरों को उनके घर तक पहुंचा चुकी है।

,d gh fnu eas fcdh 400 djksM dh ‘kjkcA ‘kjkfc;ksa dh yxh drkjA

(05-05-2020 07:45 PM)

ns’k Hkj esa ‘kjkc dh nqdkus [kqyrs gh Bsdksa ij meMh ‘kjkfc;ksa dh HkhM] mMkbZ lks’ky fMLVsaflax dh /kfTt;kaA izns’k esa ‘kjkc dh nqdku [kqyus dh [kcj ikdj  ‘kjkc ihus okyksa ds fy;s rks tSls dksbZ R;kSgkj vk x;kA ,d gh fnu esa ns’k ds rhu jkT;ksa jktLFkku] mÙkjizns’k vkSj dukZVd esa 400 djksM ls Hkh T;knk vkSj vdsys jktLFkku esa 59 djksM :i;s dh ‘kjkc fcd xbZA ;s vkadMs crkrs gSa fd ns’k esa ‘kjkfc;ksa dh rknkn fdruh T;knk gSA tgkWa ,d vksj nqdku [kqyus ls igys gh yksx yach ykbZusa cukdj [kMs gks x;s] ogha nwljh vksj lks’ky fMLVsaflax dh /kfTt;ka Hkh mMkbZ xbZA mfpr O;oLFkk,sa uk gksus ds dkj.k ‘kjkc dh nqdkuksa ds ckgj vQjkrQjh eph jghA dksVk esa rks gkyr ;s jgh fd yksxksa ls lks’ky fMLVsaflax dk ikyu djokus ds ctk; iqfyldehZ [kqn Hkh ‘kjkc dh isfV;kWa ys tkrs utj vk;sA iwjs ns’k Hkj esa ykWd Mkmu dh ljsvke /kfTt;ka mMkbZ tk jgh gSA